Friday, March 26, 2010

निगाहें

तेरी निगाहें जिसके सीने से गुज़र जायगी,
ख़ुद जायगी गुज़र,पर सीने में ज़ख्म कर जायगी|

ये दुनिया है मुसाफिरखाना हर कोई जायगा,
एक ज़िंदगी आयगी तो दूसरी बेख़बर जायगी|

जाने कब ये ज़िंदगी गुज़र जायगी,
जायगी जिस वक्त सब को ख़बर कर जायगी|

तेरी हस्ती है बुलबुला, है उम्र का एक हिसाब,
कौन जाने कब एक दम यहाँ से कूच कर जायगी|

जो दे गया एक मुस्कराहट बाग में आकर एक गुल,
देखना गुंचे के सौ टुकड़े, ज़िंदगी कर जायगी|

इम्तिहाँ लेती नही शमा ख़ुद जलकर परवानों का,
क्या ख़बर थी कि ज़िंदगी यूँ खेरात कर जायगी|

ख़ुद--ख़ुद खींच लायगी ज़िंदगी अपनी फ़ना,
बाकी का काम 'शकील' मौत कर जायगी|

1 comment: