Tuesday, October 13, 2009

शब की तारीकियाँ


जब मेरे ख़्वाब में वो दीदारे यार आया,
तो फ़िर आँखों में नींद न ख़्वाब आया|

शब की तारीकियों में न चैन न कुछ याद आया,
तमाम रात बस आया तो ख्याले यार आया|

मैं हूँ वो गमे इशक़ का मारा, नसीब में जिसके,
आया तो बस यारे गम का सवाल आया|

हज़ारों तारों से शब पर रौनके बहार आई,
महताब से तारीकियों पर शबाब आया|

शमा को रौशन देख परवाने कहने लगे,
क़यामत है या रात में कोई आफ़ताब आया|

झुकी है शब की तारीकियों में आँखे महताब की,
वो कौन है 'शाकील' जिससे उसे हिजाब आया|

( शब की तारीकियाँ-रात का अँधेरा,महताब-चाँद,आफ़ताब-सूरज,हिजाब-पर्दा )


1 comment:

  1. बहुत उम्दा गज़ल!! वाह!

    ReplyDelete